आपका इस ब्‍लाग में हार्दिक स्‍वागत है स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाऍं...

Free Website Templates

सोमवार, 15 फ़रवरी 2010

लाल का कमाल

लाल ही लाल ये दुनिया, रे मूसक तु हि बता रे ।
कौन सा ठौर है ऐसौ, जहॉं नहिं लाल बसा रे ।।
फिरते मारे क्‍यों है ? बनती नहिं कोई बात ।
धन के पिछे भागे क्‍यों है ? सह के हर हालात ।।
कहीं किसी के साथ, जनम तक सात दिया रे ।
लाल ही लाल ये दुनिया, रे मूसक तु हिं बता रे ।।
प्‍यासी ऑंखे सबकी, दरस पाने को तेरे ।
आ कर नैनो मे वास, मिट जायें सभी अँधेरे ।।
तुम रहो दूर न लाल, करो सब माफ खता रे ।
लाल हि लाल ये दुनिया, रे मूसक तु हि बता रे ।।
लाली मेरे लाल की, जित देखूँ तित लाल ।
लाली देखन मैं चली, तो मै भी हो गई लाल ।।
लाल ही लाल ये दुनिया....

2 टिप्‍पणियां:

  1. लाली मेरे लाल की, जित देखूँ तित लाल ।
    लाली देखन मैं चली, तो मै भी हो गई लाल ।

    bahut khoob.......

    उत्तर देंहटाएं