आपका इस ब्‍लाग में हार्दिक स्‍वागत है स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाऍं...

Free Website Templates

सोमवार, 22 फ़रवरी 2010

स्‍वंय को बनाऍं खुबसूरत

हर व्‍यक्ति चाहता है कि वह दूसरे से अच्‍छा दिखे । किन्‍तु किसी न किसी परेशानी की वजह से वह पिछड जाता है 1 आए दिन देखने में आता है कि हमारे शरीर में छोटी-छोटी बीमारीयों की वजह से हम हताश हो जाते है । अब आपको निराश नही होना है हम आपकी इस परेशानीयों से निजात पाने के उपाय बताने जा रहे है :-

मुहॉसे क्‍या है

चमडी मे तेल बनाने की ग्रंथी होती है जिसके छिद्र चमडी के उपरी सतह में होते है । जब किन्‍ही कारणों से यह तेल छिद्र बंद हो जाते है तो त्‍वचा में छोटी-छोटी फुंसीयॉं हो जाती है जिसे मुहॉंसे कहते है । अंग्रजी में इन्‍हें (एवने या पिंपल) कहा जाता है ।

मुहॉंसों का उपचार

1. बिना दवाई के :-

अ. चेहरे को प्रतिदिन 4 से 5 बार साबुन से धोना चाहिए ।
आ. मुहॉंसे वाली जगह में महिने में 1-2 बार भाप केवल 1-2 मिनट के लिए लेना चाहिए ।
इ. खाने मे धी, तेल, तली हुई वस्‍तु व मीठा कम खाना चाहिए ।
ई. नियमित रूप से व्‍यायाम करना चाहिए, पेट साफ न होने से मुहॉंसे होते है ।
उ. सिर में रूसी रहती है और वह चेहरे पर गिरती है तो भी मुहॉंसे हाते है । इसलिए इनका ईलाज भी जरूरी है ।
ऊ. खाने व भोजन का समय निश्‍चित होना चाहिए ।
ऋ. पानी अधिक मात्रा में पिये, हर एक धन्‍टे बाद एक गिलास पानी पिये, व सुबह उठकर एक सवा गिलास पानी पिये । इस प्रकार नियमित पानी पिते रहने से मुहॉंसे होने की संम्‍भावना कम हो जाती है ।
ऌ. मुहॉंसे के मरीज को फेशियल , ब्‍लीचिंग नही करनी चाहिए, फेश पेक भी नही लगाना चाहिए ।

2 दवाईयों द्वारा -

मुहॉंसों के लिए विभिन्‍न प्रकार के एंटीबायोटिक क्रीम, इरिथ्रोमाइसिन व क्लिंडामाइसिन, रेटिनोईक एसिड, बंजाइल परआक्‍साइड, की क्रीम आती है । खाने के लिए एंटीबायोटिक की कैपसूल, विटामीन ए व विटामीन सी की गोलियॉं दी जाती है ।

3. अन्‍य विधियों द्वारा –

अ- कृयोथेरेपी, ब- अल्‍ट्रावायलेट लैम्‍प, स – डर्मीजेट, द- एस्‍टी 7000 यूनिट ।

4. प्‍लास्‍टिक सर्जरी –

यह आपरेशन त्‍वचा में मुहॉंसों के दाग मिटान के लिए करते है । इसे तब करते है जब मुहॉंसे आने पूरी तरह बंद हो गए हो । यह डरमाइबरेशन व इन्‍ट्राडरमल टेफलान इंजेक्‍शन द्वारा करते है ।

5. केमिकल उपचार –

आजकल विशेष दवाईयों के द्वारा मुहॉंसों के दाग मिटाये जाते सकते है । इसमें काई नुकसान नही होता परन्‍तु समय 3 से 6 माह तक लगता है ।

6. माइक्रोडर्म एबरेटर –

यह मशीन मुहॉंसों के गडढों के अलावा चेचक या माता के दाग व झुर्रियों को मिटाकर चेहरे पर चमक लाती है ताकि आपसे कोई ये न कह सके कि आपने चेहरे पर जो मुहॉंसे के दाग है चॉंद तो आप ही, सितारे भी साथ है । इस इलाज से किसी भी प्रकार की तकलीफ नही होती । यह मशीन युवक-युवतियों में बहुत लोकप्रिय होती जा रही है ।

3 टिप्‍पणियां: